लोकसभा में पारित हुआ नागरिकता संशोधन बिल

मनोरंजन

Edited By: admin

Updated on: 1 week ago
FB_IMG_1575945104825
  • पीएम ने कहा- सभी सांसदों को समर्थन के लिए धन्यवाद
  • लोकसभा में चर्चा के बाद नागरिकता संशोधन बिल पास

दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को संसद में जमकर बैटिंग की। शाह ने नागरिकता संशोधन बिल पेश करने के बाद एक एक सदस्य के सवाल का जवाब दिया। रात 12 बजे तक लोकसभा की कार्रवाई चली और बिल बड़े अंतर से पास हो गया।

इस बिल के जरिये पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता देने का रास्ता खुलेगा। बिल पास होने के पूर्व गृह मंत्री अमित शाह पूरे समय डटे रहे। शाह ने लगातार इस बिल को लेकर सदस्यों के सवालों का जवाब दिया।

शाह ने स्पष्ट किया कि इस्लामिक राष्ट्र से आने वाले हिन्दू, सिख, ईसाई, पारसी और जैन धर्म के लोगों को नागरिकता मिलेगी। संसद असदुद्दीन ओवैसी के संशोधन खारिज कर दिए गए और बिल को बड़े अंतर से पारित किया गया।

अमित शाह ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि पूरे देश मे एनआरसी लागू होगा और नागरिकों के अधिकार समान होंगे।

प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर अमित शाह को बधाई दी
ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा से पास हो गया है. इस विधेयक पर बेहद महत्वपूर्ण चर्चा हुई. मैं सभी सांसदों को समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं. इस बिल में सदियों से चली आ रही भारतीय परंपरा और मानवीय मूल्यों में विश्वास की झलक दिखती है।

बहस का अमित शाह ने जवाब दिया

लोकसभा में चर्चा के बाद यह विधेयक पास हो गया। मत विभाजन में विधेयक के पक्ष में 311 जबकि विपक्ष में 80 वोट पड़े। नागरिकता संशोधन बिल पर बहस के दौरान अमित शाह ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस देश का विभाजन न करती तो मुझे यह बिल लेकर नहीं आना पड़ता। लोकसभा में शाह ने कहा, मैं चाहता हूं देश में भ्रम की स्थिति न बने। किसी भी तरीके से ये बिल गैर संवैधानिक नहीं है न ही ये बिल अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करता है। धर्म के आधार पर ही देश का विभाजन हुआ था. देश का विभाजन धर्म के आधार पर न होता तो अच्छा होता। इसके बाद इस बिल को लेकर आने की जरूरत हुई।